CBSE Latest

Letter Summary Class 10 English

Letter Summary Class 10 English

Summary of the Letter in English ” width=”800″ height=”500″ data-recalc-dims=”1″/>

Ali intends to ship mail early within the morning
On the early dawn, the celebs shone previous as I went. He remembered the great memory of his life. He walked via the town. He pulls his teared garments tightly from I to his body because it was very chilly. He heard the stones grinding from the houses. There was also a dog's shell or hen. A lot of the residents have been nonetheless asleep in that robust chilly. Previous man shaking. He walked tired by supporting himself on his previous stick

The scene when the submit opened
After a while he reached the publish workplace constructing. He felt completely satisfied as a pilgrim when he obtained to the vacation spot. He sat quietly on the veranda. He heard some individuals got here to him. Sound referred to as Police Chief. It was the voice of an official from the Submit Office. He urged the individual to obtain this police officer letter. The previous man was amazed on the voice, but composed himself to attend.

Calling the Publish Workplace
The publish office official learn the names after the names. These have been the Commissioner, – the superintendent, Diwan Sahib, and he threw out the letters. Somebody referred to as the Coachman Ali fucking to see the previous man Ali. He obtained up and went to Gokul Bhai, a mail officer. He advised him that he had referred to as his identify. He was there to get his letter. But the officer retreated. He informed the postman that the loopy man (previous man Ali) came each day and fearful about them. Ali slowly went to the bench. He had come to take a seat there for 5 years.

Ali's Past
Ali had been a skilled hunter. He had turn out to be very skilled and traditional searching. He had a hard time staying without it. He used a chick or a hare from a bush that canine had not seen. He was additionally a fantastic boss. However now the evening of his life had drawn. He had left his previous means.

Ali loneliness
Alone the only baby Miriam was married and left her. She had gone together with her husband, a soldier within the red-holy army. Over the past 5 years Alli had no information of her daughter she had lived for now. He was like a young social gathering with out his mother and father. He was not capable of take pleasure in his searching day. It is clear that he had recognized the truth of life and understood them.

Ali's Every day Submit Workplace
She had been lonely going to Miriam after her marriage. He was deeply mirrored in the admiration of inexperienced fields. He said that the whole universe is being built by way of love. However the unhappiness of segregation can also be inevitable. He wept bitterly to think about it

From that day on he had come to the publish office each morning to get a letter from his only daughter, Miriam. All through his life he hadn't even acquired one letter. Nevertheless, he got here to the submit workplace day-after-day hoping to get it. The publish workplace had grow to be a spot of pilgrimage for him.

Feedback from Submit's officers at Ali's submit workplace
Though Ali waited, the peons would speak about masters scandals. Previously, they came to receive letters to their masters. The postmaster sat on a picket floor inanimate. Someday, when the parties within the numerous workplaces have been gone by the mail of their bosses, Ali acquired up and greeted the submit workplace as if it have been a remnant. Postmaster asked if Ali was indignant. The clerk informed the postman that he had come there day by day for the last 5 years. However he had no letter.

Indirect Comments from Publish's Officers on Alista Crazy
Then postmaster, postman and clerk discussed. They often remark loopy, which means that Ali was crazy. The postmaster spoke to the postman in Ahmedabad, who would make some piles of mud. Then they talked about madness. They stated the crazy lived on the planet in his personal approach. Madman's world is just like the poet's world, commenting on the postman sarcastically.

An insult to the postmaster
Ali didn’t come to the submit workplace for a number of days. Eventually she came once more. This time he couldn't even breathe properly. He went to the postmaster and asked him if he had a letter from Miriam. The postmaster answered angrily. He informed him to write down his identify if he acquired a letter from Miriam. He hoped that the postman would deliver his letter. The postmaster misplaced his character and asked Al to go away. Ali got here out, however her eyes have been helpless. His endurance was exhausted.

Ali Provides Cash to a Submit Workplace Officer
Ali saw an officer behind him. Ali talked to him. He provided him 5 golden Guinea and asked him to do him good. Ali advised the clerk in the identify of Allah to send the letter of Miriam to her tomb. He informed him that this present day was his final day. There have been tears within the eyes. He was never seen again there.

Disease of the Postmaster's Daughter
At some point, the postman faced issues. Her daughter turned unwell in one other metropolis. He was eagerly ready for the news about him, however there was no letter. Seeing the mail he found one letter addressed to Alli. He dropped it by shock. He felt that it needed to be Miriam's daughter of Ali. He referred to as Officer Lakshmi Das and advised him to search for Al and provides it to him.

Postmaster Concern
The postmaster didn’t obtain any news from his daughter. He was frightened all night time. She received up in three nights and went to the submit office. Now he had understood Ali's heart and soul by means of his own pain.

Ali's ghost in front of a postmaster
Five, he heard a gentle gap in the door. It was Ali. The postmaster rose from the chair and opened the gate. He saw Ali leaned on his cane and asked him to return in. She had tears on her face. But he appeared unclear. The Postmaster Lowered Worry and Despair (Alle Ghost)

The Fact About Ali's Demise
Lakshmi Das had heard the postman's words when he got here to the publish office on the other aspect. He asked the postman if it was Ali. But the postman continued to go down the door that Ali had lost. He advised Lakshmi Das that it was Ali. He questioned the place he might have gone. But Lakshmi Das replied that Ali had died three months earlier.

Change within the Postmaster's Mind and Heart
The postmaster was confused. The image was still in entrance of him and the letter of Miriam was in entrance of him. The day by day routine began within the office, but the postmaster's coronary heart was elsewhere. He heard the officer's calling police officer, vanity, and so on. Now the postman did not contemplate his letters as envelopes or postcards. He treated them with humanity in colour.

Ali letter to the tomb
Tonight, each the postman and Lakshmi Das went to the tomb of Ali. They placed it on the letter and turned again. The postmaster requested Lakshmi Das whether he had first come to the workplace in the morning. Lakshmi Das replied that he was. However the postman could not understand something about Ali's outcome. He now understood and understood Ali's nervousness. He was tortured for suspicion and nervousness when he was sitting within the presence of Carbon Sigri. She sat there waiting for her daughter's news.

Letter summary in Hindi

काफी सुबह अली का डाकखाने जाना
अधिक सुबह के समय तारे चमक रहे थे ध वृद्ध व्यक्ति चलता गया। उसने अपने जीवन की खुशी को यादगारों को याद किया। वह कस्बे में चल रहा था। वह अपने फटे-पुराने कपड़ों को अपने शरीर के साथ सटा कर खींच रहा था क्योंकि काफी उण्ड थी। उसने घरों से पत्थरों की चक्कियों द्वारा पीसने की आवाजे सुनीं। एक कुत्ते के भौंकने की और पक्षी के चहचहाने की आवाज भी आई। उस कड़ाके की सर्दी में तिकतर निवासी अभी तक सो रहे थे। वृद्ध व्यक्ति काँपा। 19 अपनी पुरानी लाठी के सहारे थका हुआ चलता गया।

19 ाकखाने के खुलने का दृश्य
कुछ समय पश्चात् वह खाकखाने के भवन पर पहुँच गया। उसने एक तीर्थयात्री की तरह खुशी महसूस की जैसे वह गंतव्य यर पहुँच जाता है। वह शान्ति से बरामदे में बैठ गया। उसने अपने पास आती हुई कुछ व्यक्तियों की आवाज सुनी। एक आवाज़ आई “पुलिस अधीक्षक”। यह डाकघर कर्मचारी की आवाज थी। इस पुलिस अधिकारी के लिए एक व्यक्ति को ्र लेने के लिये कह रहा था। वृद्ध व्यक्ति आवाज सुनकर चौंका परन्तु उसने प्रतीक्षा करने के लिए स्वयं को नियन्त्रित कर लिया.

डाकखाने के क्लर्क द्वारा नाम बोले नाना
डाकखाने के क्लर्क ने नाम के पश्चात् नाम पढे. ये कमिश्नर, अधीक्षक, दीवान साहिब के थे और उसने पत्रों को बाहर फेंक दिया। वृद्ध व्यक्ति अली को देखकर किसी ने मजाक में “कोचमैन अली” पुकारा। वह उठा और डाकखाने के कर्मचारी गोकुल भाई के पास गया। उसने उसे याया कि उसने उसका नाम पुकारा था। वह अपना पत्र लेने के लिये वहाँ आया था। परन्तु क्लर्क झुंझला गया। उसने “पोस्टमास्टर के सामने कहा कि एक पागल व्यक्ति (वृद्ध व्यक्ति अली) वहाँ रोज आता है और उन्हें परेशान करता है। अली धीरे से बैंच पर वापस चला गया। वह वहाँ बैठने के लिए पाँच वर्षों से आ रहा था।

अली का भूतकाल
अली एक चतुर शिकारी था। बहुत निपुण और शिकार का आदी हो गया था। उसके लिए इसके बिना रहना काफी कठिन था। वैसे तीतर या खरगोश को झाड़ी से निकाल लिया करता था जिसे कुत्तों ने भी नहीं देखा होता था। वह एक उत्तम निशानेबाज
भी था। परन्तु उसके जीवन की शाम अब समीप आ रही थी। उसने अपने पुराने तौर-तरीके छोड़ दिये थे।

अली का अकेलापन
अली की अकेली सन्तान मिरियम की शादी हो गई वह वहऔ वहछोड़ वह अपने पति के साथ चली गई थी जो एए सैसै कए कसै कथ कसै कसै कपंज क पिछले पाँच वर्षों से अली को अपनी पुत्री की कोई र नहीं लीिली थी सिसके लिए अब वह जी रहा था। वह युवा तीतरों की तरह था जो अपने माता पिता के बिना रह गये थे। वह अपने शिकार के दिनों की पुरानी खुशी का अब और आनन्द उठा नहीं सकता था। स्पष्टतया उसने जीवन के सत्यों को महसूसरा लिया था और उन्हें समझ गया था.

अली का रोज डाकखाने आना
वह मिरियम के उसकी शादी के पश्चात् चले ेाने से ेलकेला हो गया था. उसने हरे भरे खेतों की प्रशंसा में खोये हुये गहराई से सोचा। उसने परिणाम निकाला कि सारा संसार प्यार द्वारा बना हुआ हैं। परन्तु बिछुड़ने का दुख भी ऐसा है ससेिससे कोई बच नहीं सकता। वह यह सोचकर फूट-फूट कर रोया।

उस दिन से अपनी अकेली पुत्रा मिरियम से र्र प्राप्ति के लिये वह डाकखाने में हरेक सुबह लगभग पाँच बजे आता था। अपने सारे जीवन में उसे एक पत्र भी नहीं मिला था। फिर भी वह आशा करते हुये किवह रख पर रप कप कप कप कड कड डाकखाने का भवन उसके लिए एक तीर्थस्थान हो गया था.

अली के डाकखाने आने पाकमाना कर्मियों द्वारा टीका-टिप्पणी
जब अली प्रतीक्षा करता था तो सीरा अपने मालिकों के बुरे कारनामों के बारे में बातें करते. वे अपने मालिकों की डाक लेने आया करते थे। पोस्टमास्टर बिना आकृति वाला चेहरा लिए निर्जीव अवस्था में बैठा रहता। एक दिन्् भिन्न-भिन्न दफ्तरों से आये चपरासी अपने अफसरों की डाकखाने को नमस्ते की जैसे कि वह कोई पवित्र अवशेष हो ।। पोस्टमास्टर ने पूछा कि क्या अली पागल है। क्लर्क ने पोस्टमास्टर को बताया कि वह पिछले पाँच वर्षों से वहाँ हर रोज आ रहा था। परन्तु उसे कोई पत्र नहीं मिला है.

डाकखाने के कर्मचारियों द्वारा अली को पागल करार देने की अप्रत्यक्ष टीका-टिप्पणी
तब पोस्टमास्टर, डाकिया और क्लर्क के बीच बहसक क्लर्क के बीचए बहस छिड़ गई. उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप में अली को पागल करार देते हुये पागल व्यक्तियों पर अलग-अलग बातें कीं। पोस्टमास्टर ने अहमदाबाद एक डाकिये के बारे में बात की जोिम्ट के छोटे-छोटे ढेर बनाया करता था। फिर उन्होंने पागलपन के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि पागल अपने द्वारा बनाई गईं स्वयं की दुनिया में रहते हैं। पोस्टमास्टर ने व्यंग्यात्मक ढंग से कहा कि पागल व्यक्ति की दुनिया एक कवि की दुनिया की तरह होती है.

अली का पोस्टमास्टर द्वारा अपमान
कई दिनों से अली डाकखाने नहीं आया. अन्त में वह एक दिन फिर आया। इस बार वह अच्छी प्रकार से सांस भी नहीं ले सकता था। पोस्टमास्टर के पास गया और उससे पूछा कि क्या उसे ीकी मिरियम से एक पत्र मिला है। पोस्टमास्टर ने गुस्से से उत्तर दिया। उसने उसे ाका नाम लिखने के लिए कहा यदि उसे मिरियम का पत्र मिले। उसने आशा की कि पोस्टमास्टर उसका पत्र भिजवा देगा। पोस्टमास्टर को गुस्सा आ गया और अली को बाहर जाने के लिए कहा। अली बाहर आ गया परन्तु उसकी आँखों में विवशता के आँसू थे। उसकी सहनशीलता समाप्त हो गई थी।

अली द्वारा डाकखाना क्लर्क को पैसा दिया जाना
अली ने एक क्लर्क को अपने पीछे आते देखा। अली ने उससे बातें कीं। उसने उसे ेने की पाँच गिन्नियाँ दी और उसे उसके लिए एक काम करने को कहा। ने अल्लाह का नाम लेकर क्लर्क को बताया कि वह्र उसकी कब्र पर पहुँचा दे ।। उसने उसे याया कि वह निन उसका अन्तिम दिन था। की आँखों में आँसू थे। उसे दोबारा वहाँ कभी नहीं देखा गया। किसी ने भी उसके बारे में पूछताछ करने के लिए कष्ट नहीं किया।

पोस्टमास्टर की पुत्री का बीमार होना
एक दिन पोस्टमास्टर को एक कष्ट हो गया। दुसरे कस्बे में उसकी पुत्री बीमार पड़ गई। वह उसकी खबर पाने के लिए उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रपता था परन्तु कोई पत्र नहीं मिला। डाक को देखते हुए ेने उस के नाम एक पत्र देखा। उसने इसे झटके के साथ नीचे गिरा दिया। उसने महसूस किया कि अवश्य ही रयह ीीी पुत्री मिरियम का पत्र होगा। उसने क्लर्क लक्ष्मी दास को बुलाया और उसे अली को ढूंढने और उस र्र को उसेदेे के लिए कहा.

पोस्टमास्टर की चिन्ता
पोस्टमास्टर को अपनी पुत्री का कोई समाचार प्राप्त नहीं हुआ. उसने सारी रात चिन्ता की। वह रात को तीन बजे उठा और खाकखाने में ेने कल एिगय गया। 19 वह अपने दुख के द्वारा अली के दिल और आत्मा को समझ गया था।
19 ाँच बजे उसने दरवाजे पर एक हल्की सी खटखटाहट सुनो। यह अली था। पोस्टमास्टर कुर्सी से उठा और उसने दरवाजा खोला। उसने अली को अपनी लाठी परते झुकते हुए देखा औरउउहहहह उसके चेहरे पर आँसू थे। परन्तु वह अप्राकृतिक दिख रहा था। (अली के भूत पर) पोस्टमास्टर भय व आश्चर्य में ुड़िकुड़कर पीछे हट गया.

अली की मृत्यु की सच्चाई
लक्ष्मी दास ने पोस्टमास्टर के शब्द सुने थे जैसे जैसे दूसरत तरफ से खाकखाने की तरफ आया था. उसने पोस्टमास्टर से पूछा कि क्या वह अली था। रन्तु पोस्टमास्टर ने दरवाजे पर घूरकर देखना जारी रखा जिससे अली अदृश्य हो गया था। उसने लक्ष्मी दास को बताया कि वह अली था। उसे आश्चर्य था कि वह कहाँ गया होगा।

पोस्टमास्टर के दिमाग वव45द
पोस्टमास्टर भयभीत हो गया था। रन्तु लक्ष्मी उत कउत द तीन महीने पहले यु्यु गई ी ती का ााचेह चेहचेहा ााा ााा सम का कसस ककक कक दफ्तर में रोज का कार्य आरम्भ हो गया परन्तु पोस्टमास्टर का दिल कहीं और था उसने क्लर्क द्वारा पुलिस कमिश्नर, अधीक्षक आदि के नामों को पुकारते हुए अब पोस्टमास्टर ने उनके पत्रों को लिफाफे या पोस्टकार्ड के रूप में नहीं देखा।

ऐ का पत्र उसकजै कब्र पर भिजवाना
उस शाम पोस्टमास्टर और लक्ष्मी दास दोनों अली की कब्र पर गये। उन्होंने इस पर पत्र रख दिया और वे वापिस मुड़े। पोस्टमास्टर ने लक्ष्मी दास से पूछा कि क्या वह उस सुबह दफ्तर में आने वाला पहला व्यक्ति था। लक्ष्मी दास ने हाँ में उत्तर दिया। परन्तु पोस्टमास्टर अली के आने के बारे में कुछ नहीं समझ सका। अब उसने अली की चिन्ता को महसूस किया और इसे समझा। सीगड़ी के कोयलों ​​की रोशनी में देहन्देह और चिन्ता द्वारा सताया हुआ बैठा। वह वहाँ अपनी पुत्री के समाचार की प्रतीक्षा करता हुआ बैठा।

Class 10 English Notes